Top One

भारतीयो के लिए नवरात्रि का महत्व क्यों

भारतीयो के लिए नवरात्रि का महत्व क्यों - शारदीय नवरात्रि का त्योहार इस साल 29 सितंबर 2019 को मनाया जाएगा। नवरात्रि का त्योहर साल में दो बार मनाया जाता है, नवरात्रि के समय प्रकृति में कई तरह के बदलाव होते हैं और नवरात्रि का त्योहार मौसम के अनुकूल माना जाता है, जो शरीर में ऊर्जा को बढ़ाता है ।

इसके अलावा भी अन्य कारण है जिसकी वजह से नवरात्रि का त्योहार मनाया जाता है।

नवरात्रि का त्योहार पूरे देशभर में बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि क्यों मनाया जाता है नवरात्रि का त्योहार, क्या है इसे मनाने के पीछे की मान्यता।

भारतीयो के लिए नवरात्रि का महत्व क्यों

नवरात्रि पर मां दुर्गा के सभी नौ रूपों की पूजा की जाती है। यह वह समय होता है। जब मौसम में बदलाव होता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार सर्दियो से पहले भगवान श्री राम ने अपनी विजय के लिए मां दुर्गा की आराधना की थी।

तो आइए जानते है क्यों मनाया जाता है नवरात्रि का त्योहार

क्यों मनाते हैं नवरात्रि
आध्यात्मक दृष्टिकोण से नवरात्रि का पर्व साल में दो बार मुख्य रूप से आता है। नवरात्रि का पर्व मौसमी परिवर्तनों के मौके पर मनाया जाता है। एक गर्मियों की शुरुआत में और दूसरा सर्दियों की शुरुआत में जब इस त्योहार को मनाया जाता है।

यह वह समय होता है जब प्रकृति बड़े बदलाव से गुजरती है और और इसका स्वागत नवरात्रियों के माध्यम से देवी शक्ति द्वारा किया जाता है, जो स्वयं प्रकृति का अवतार है। नवरात्रि का त्योहार मौसम के अनुकुल होने पर ही मनाया जाता है।

यह वह समय होता है जब कोई भी बड़ा समारोह किया जा सकता है।

Also Read This :
कब और कैसे खाना है स्‍वास्‍थ्‍य के लिए सही
स्‍वास्‍थ्‍य के लिए फायदेमंद है हँसना

पौराणिक कथा

शास्त्रों में नवरात्रि का त्योहार मनाए जाने के पीछे दो कारण बताए गए हैं। पहली पौराणिक कथा के अनुसार महिषासुर नाम का एक राक्षस था जो ब्रह्मा जी का बड़ा भक्त था। उसने अपने तप से ब्रह्माजी को प्रसन्न करके एक वरदान प्राप्त कर लिया।

वरदान में उसे कोई देव, दानव या पृथ्वी पर रहने वाला कोई मनुष्य  मार ना पाए। वरदान प्राप्त करते ही वह बहुत निर्दयी हो गया और तीनो लोकों में आतंक माचने लगा। उसके आतंक से परेशान होकर देवी-देवताओं ने  ब्रह्मा, विष्णु, महेश के साथ मिलकर माँ शक्ति के रूप में दुर्गा को जन्म दिया।

माँ दुर्गा और महिषासुर के बीच नौ दिनों तक भयंकर युद्ध हुआ और दसवें दिन माँ दुर्गा ने महिषासुर का वध कर दिया। इस दिन को अच्छाई पर बुराई की जीत के रूप में मनाया जाता है।

एक दूसरी कथा के अनुसार, भगवान राम ने लंका पर आक्रमण करने से पहले और रावण के संग युद्ध में जीत के लिए शक्ति की देवी माँ भगवती की आराधना की थी। रामेश्वरम में उन्होंने नौ दिनों तक माता की पूजा की।

उनकी भक्ति से प्रसन्न होकर माँ ने श्रीराम को लंका में विजय प्राप्ति का आशीर्वाद दिया। दसवें दिन भगवान राम ने लकां नरेश रावण को युद्ध में हराकर उसका वध कर लंका पर विजय प्राप्त की। इस दिन को विजय दशमी के रूप में जाना जाता है।

वह अंतर्निहित ऊर्जा है जो सृजन, संरक्षण और विनाश के कार्य को प्रेरित करती है।"दुर्गा" का अर्थ दुखों को दूर करने वाला है। लोग उनकी पूजा पूरी श्रद्धा से करते हैं ताकि देवी दुर्गा उनके जीवन से दुखों को दूर कर सकें और उनके जीवन को सुख, आनंद और समृद्धि से भर सकें।

लोग पूरी श्रद्धा और समर्पण के साथ नवरात्रि पर देवी दुर्गा के विभिन्न रूपों की पूजा करते हैं। नवरात्रि मां काली, लक्ष्मी, और सरस्वती के रूप में मां दुर्गा की पूजा की जाती है।

भारतीयो के लिए नवरात्रि का महत्व क्यों

नौ देवियाँ है :-

शैलपुत्री - इसका अर्थ- पहाड़ों की पुत्री होता है।
ब्रह्मचारिणी - इसका अर्थ- ब्रह्मचारीणी।
चंद्रघंटा - इसका अर्थ- चाँद की तरह चमकने वाली।
कूष्माण्डा - इसका अर्थ- पूरा जगत उनके पैर में है।
स्कंदमाता - इसका अर्थ- कार्तिक स्वामी की माता।
कात्यायनी - इसका अर्थ- कात्यायन आश्रम में जन्मि।
कालरात्रि - इसका अर्थ- काल का नाश करने वली।
महागौरी - इसका अर्थ- सफेद रंग वाली मां।
सिद्धिदात्री - इसका अर्थ- सर्व सिद्धि देने वाली।

नवरात्रि के पहले तीन दिन

नवरात्रि के पहले तीन दिन देवी दुर्गा की पूजा करने के लिए समर्पित किए गए हैं। यह पूजा उसकी ऊर्जा और शक्ति की की जाती है। प्रत्येक दिन दुर्गा के एक अलग रूप को समर्पित है।

नवरात्रि के चौथा से छठे दिन

व्यक्ति जब अहंकार, क्रोध, वासना और अन्य पशु प्रवृत्ति की बुराई प्रवृत्तियों पर विजय प्राप्त कर लेता है, वह एक शून्य का अनुभव करता है। यह शून्य आध्यात्मिक धन से भर जाता है।

प्रयोजन के लिए, व्यक्ति सभी भौतिकवादी, आध्यात्मिक धन और समृद्धि eप्राप्त करने के लिए देवी लक्ष्मी की पूजा करता है। नवरात्रि के चौथे, पांचवें और छठे दिन लक्ष्मी- समृद्धि और शांति की देवी, की पूजा करने के लिए समर्पित है।

शायद व्यक्ति बुरी प्रवृत्तियों और धन पर विजय प्राप्त कर लेता है, पर वह अभी सच्चे ज्ञान से वंचित है। ज्ञान एक मानवीय जीवन जीने के लिए आवश्यक है भले हि वह सत्ता और धन के साथ समृद्ध है। इसलिए, नवरात्रि के पांचवें दिन देवी सरस्वती की पूजा की जाती है।

सभी पुस्तकों और अन्य साहित्य सामग्रियों को एक स्थान पर इकट्ठा कर दिया जाता हैं और एक दीया देवी आह्वान और आशीर्वाद लेने के लिए, देवता के सामने जलाया जाता है।

भारतीयो के लिए नवरात्रि का महत्व क्यों

नवरात्रि का सातवां और आठवां दिन

सातवें दिन, कला और ज्ञान की देवी, सरस्वती, की पूजा की है। प्रार्थनायें, आध्यात्मिक ज्ञान की तलाश के उद्देश्य के साथ की जाती हैं। आठवे दिन पर एक 'यज्ञ' किया जाता है।

यह एक बलिदान है जो देवी दुर्गा को सम्मान तथा उनको विदा करता है।

नवरात्रि का नौवां दिन

नौवा दिन नवरात्रि समारोह का अंतिम दिन है। यह महानवमी के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन कन्या पूजन होता है। उन नौ जवान लड़कियों की पूजा होती है जो अभी तक यौवन की अवस्था तक नहीं पहुँची है। इन नौ लड़कियों को देवी दुर्गा के नौ रूपों का प्रतीक माना जाता है।

लड़कियों का सम्मान तथा स्वागत करने के लिए उनके पैर धोए जाते हैं। पूजा के अंत में लड़कियों को उपहार के रूप में नए कपड़े पेश किए जाते हैं।

भारतीयो के लिए नवरात्रि का महत्व क्यों

नवरात्रि भारत के विभिन्न भागों में अलग ढंग से मनायी जाती है। गुजरात में इस त्योहार को बड़े पैमाने से मनाया जाता है। गुजरात में नवरात्रि समारोह डांडिया और गरबा के रूप में जान पड़ता है।
यह पूरी रात भर चलता है। डांडिया का अनुभव बड़ा ही असाधारण है। देवी के सम्मान में भक्ति प्रदर्शन के रूप में गरबा, 'आरती' से पहले किया जाता है और डांडिया समारोह उसके बाद। पश्चिम बंगाल के राज्य में बंगालियों के मुख्य त्यौहारो में दुर्गा पूजा बंगाली कैलेंडर में, सबसे अलंकृत रूप में उभरा है।

इस अदभुत उत्सव का जश्न नीचे दक्षिण, मैसूर के राजसी क्वार्टर को पूरे महीने प्रकाशित करके मनाया जाता है।



Best articles around the web and you may like
Newsexpresstv.in for that must read articles


Read More here

भारतीयो के लिए नवरात्रि का महत्व क्यों