Top One

18 घंटे से 24 घंटे का क्यों हो गया दिन, क्या है राज ?

18 घंटे से 24 घंटे का क्यों हो गया दिन, क्या है राज ? - पूरे दिन में 24 घंटे होते हैं और जब से हमने जन्‍म लिया है

यही देखते आ रहे हैं कि एक दिन में 24 घंटे होते हैं लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि एक समय ऐसा भी था जब धरती का एक दिन 24 घंटे से कम हुआ करता था।

आने वाले समय में ये 24 घंटे से 25 घंटे भी हो सकते है आप सभी सोच रहे हो गये की हम ये क्या कहे रहे है।  ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि अरबों सालों से चंद्रमा और धरती के बीच की दूरी बढ़ती जा रही है.

चंद्रमा से दूरी बढ़ने की वजह से धरती पर दिन लंबे होते जा रहे हैं.

18 घंटे से 24 घंटे का क्यों हो गया दिन, क्या है राज ?

एक रिसर्च के दौरान वैज्ञानिकों ने इस बात का पता लगाया है कि अब धरती पर हर एक दिन लंबा होता जा रहा है और ये लगातार हो रहा है।

पहले की बात करें तो तब एक दिन 24 नहीं बल्कि 18 घंटे का हुआ करता था। क्योंकी  1.4 अरब साल पहले जब चंद्रमा धरती से दूर नहीं थातो दिन मात्र 18 घंटे और 41 मिनट का हुआ करता था.जी हां,पहले दिन 18 घंटे मे ही खत्म हो जाया  करता था।

अमेरिका में विस्कॉन्सिन मैडिसन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर स्टीफन मेयर्स के मुताबिक, अपनी गति की वजह से जैसे-जैसे चंद्रमा धरती से दूर हो रहा है.

Also Read This :
 दुनिया के ऐसे पाँच देश जहाँ कभी नहीं होती रा
 एक ऐसा देश जहाँ जिन्दा लोगो को दफ़न करके मनाया जाता है जश्न
                         
इसकी वजह से धरती की गति भी कम हो रही है, क्योंकि ब्रह्मांड में पृथ्वी की गति दूसरे ग्रहों से प्रभावित होती है, जो उस पर बल डालते हैं.

वैज्ञानिकों के मुताबिक, लाखों वर्षों के पृथ्वी और चंद्रमा की गति के अध्ययन से पता चलता है कि पृथ्वी और चंद्रमा के बीच दूरी बढ़ रही है, हर साल चांद धरती से 3.82 सेंटीमीटर दूर जाता जा रहा जिसका असर दिन के घंटों पर पड़ता है.

जिस तरह चांद धरती से दूर जा रहा है उस कारण से धरती के प्रति उसका गुरुत्‍वाकर्षण खिंचाव भी कम होता जा रहा है।जिस से पृथ्वी और चंद्रमा के बीच दूरी बढ़ रही है, जिसका असर दिन के घंटों पर पड़ता है.

18 घंटे से 24 घंटे का क्यों हो गया दिन, क्या है राज ?

जियोसाइंस में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक चंद्रमा की ऊपरी सतह और अंदरुनी हिस्से के बीच में पर्याप्त मात्रा में पानी है, हालांकि रिपोर्ट में कहा गया है कि आंतरिक स्रोतों से चांद पर पानी होने का पता नहीं चलता है.

अरबों सालों से सोलर सिस्टम में होने वाले बदलावों की वजह से धरती पर दिन की लंबाई बढ़ती जा रही है. सोलर सिस्टम में होने वाले ये छोटे-छोटे बदलाव लाखों सालों बाद एक बड़े बदलाव की वजह बनते हैं

ये खबर उन लोगों के लिए बहुत काम की है जिन्‍हें दिन के 24 घंटे कम पड़ते थे। आपकी जिंदगी में भी कभी ऐसा वक्‍त आया होगा जब आपको दिन के 24 घंटे कम लगे हों।

अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो ये खबर आपके बहुत काम की है क्‍योंकि धरती और चांद की लगातार बढ़ती दूरी की वजह से दिन लंबे होते जा रहे हैं।


Best articles around the web and you may like
Newsexpresstv.in for that must read articles


Read More here


18 घंटे से 24 घंटे का क्यों हो गया दिन, क्या है राज ?