Top One

Mumbai and Kolkata की 2050 तक डूबने की आंशका जताई

Mumbai and Kolkata की 2050 तक डूबने की आंशका जताई - America की एक एजेंसी ने अपने शोध में दावा किया है कि 2050 तक मुंबई और कोलकाता डूब सकता है।

बाढ़ से सालाना प्रभावित होने वाले 50 लाख लोगों के मुकाबले साल 2050 में साढ़े तीन करोड़ से ज्यादा लोग प्रभावित होंगे। इसी के साथ यह भी बताया गया है

कि अगर वैश्विक कॉर्बन उत्सर्जन में भारी कटौती नहीं की गयी तो बाढ़ से मुंबई, नवी मुंबई, कोलकाता के बड़े भाग प्रभावित होंगे।

Mumbai and Kolkata की 2050 तक डूबने की आंशका जताई

America जलवायु अनुसंधान और संचार संगठन 'Climate Central'  के नए डिजिटल उन्नयन मॉडल 'Coastal' के प्रयोग से यह अनुमान लगाया गया है।

Journal, Nature Communications में प्रकाशित Climate Central Study  के अनुसार, नासा के Shuttle radar topography mission (SRTM) पर आधारित तटीय बाढ़ जोखिम आकलन ने अब तक के जोखिमों को कम करके आंका है।

NASA Model  ने आकाश की सबसे नजदीकी सतहों को मापने के दौरान पेड़ की चोटी और छतों की ऊंचाई को शामिल किया जहां भी उन्होंने जमीन को अवरुद्ध किया था।

नई शोध प्रणाली कोस्टलडेम की Artificial Intelligence Tool के प्रयोग ने गलतियों को कम कर दिया है और वार्षिक तटीय बाढ़ के नए अनुमानों को बताया है।

Million लोगों को प्रभावित कर सकती है ये बाढ़

अध्ययन में कहा गया है कि तटीय बाढ़ से 2050 तक वैश्विक स्तर पर और ज्यादातर एशिया में 300 Million लोगों को प्रभावित कर सकती है

Mumbai and Kolkata की 2050 तक डूबने की आंशका जताई

और उच्च ज्वार की रेखा स्थायी रूप से लगभग 150 Million लोगों की रिहायसी भूमि से ऊपर उठ सकती है।

Climate Centra ने कहा 

Climate Central ने एक बयान में कहा कि अनियंत्रित उत्सर्जन के आधार पर अनुमान (2015 पेरिस समझौते को पूरा नहीं करने) और जल्दी शुरू होने वाली बर्फ की चादर अस्थिरता परियोजना के लिए संभावित है
कि समुद्र का स्तर बढ़ने से उन क्षेत्रों को खतरा हो सकता है जहां अब तक 640 Million लोग रहते हैं। इनमें से 340 Million लोगों की भूमि साल 2100 तक उच्च ज्वार रेखा से नीचे गिरने का पूर्वानुमान है।


Mumbai and Kolkata 2050 तक डूबने की आंशका जताई


इस परिदृश्य का मतलब है कि आठ एशियाई देशों में वर्तमान में नियमित रूप से उच्च ज्वार कम से कम 10 Millionलोगों के लिए घर की तुलना में भूमि से अधिक होगा।

20 वीं शताब्दी में वैश्विक औसत समुद्री स्तर 11-16 सेमी बढ़ा। कार्बन उत्सर्जन में तेज और तत्काल कटौती के साथ यह इस सदी में 0.5 मीटर और बढ़ सकता है।

शोध ने चेतावनी दी है कि

अध्ययन ने यह चेतावनी दी है कि उच्च उत्सर्जन परिदृश्यों के तहत 21 वीं सदी की वृद्धि जल्दी शुरू होने वाले अंटार्कटिक बर्फ शीट की अस्थिरता की वजह से 2 मीटर से अधिक हो सकती है।

Also Read This:
Sarah Mapelli Queen Bee
Serial Killer Diogo Alves का सर 176 Years से बोतल में क्यों रखा है

नए आंकड़ों के अनुसार यह भी दावा किया गया है कि साल 2050 तक तटीय बाढ़ से सबसे अधिक बांग्लादेश और चीन के क्रमशः 93 और 42 मिलियन लोगों प्रभावित होंगे।

सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें फेसबुक (facebook) और ट्विटर (twitter) पर फॉलो करें   Best articles around the web and you may like  Newsexpresstv.in for that must read articles

Read More Here

Mumbai and Kolkata 2050 तक डूबने की आंशका जताई